39.1 C
Delhi
Wednesday, June 12, 2024

Buy now

Adsspot_img

क्या तकल्लुफ करे ये कहने में – Usake pahaloo se lag ke chalate hain Ham kahaan Taalane se Talate hain

- Advertisement -

उसके पहलू से लग के चलते हैं
हम कहाँ टालने से टलते हैं

मैं उसी तरह तो बहलता हूँ यारों
और जिस तरह बहलते हैं

वोह है जान अब हर एक महफ़िल की
हम भी अब घर से कम निकलते हैं 

क्या तकल्लुफ़ करें ये कहने में 
जो भी खुश है हम उससे जलते हैं 

है उसे दूर का सफ़र दरपेश
हम सँभाले नहीं सँभलते हैं

है अजब फ़ैसले का सहरा भी 
चल न पड़िए तो पाँव जलते हैं 

हो रहा हूँ मैं किस तरह बर्बाद 
देखने वाले हाथ मलते हैं 

तुम बनो रंग, तुम बनो ख़ुशबू 
हम तो अपने सुख़न में ढलते हैं

 

usake pahaloo se lag ke chalate hain
ham kahaan Taalane se Talate hain

main usii tarah to bahalataa hoon yaaron
aur jis tarah bahalate hain

voh hai jaan ab har ek mahafil kii
ham bhii ab ghar se kam nikalate hain

kyaa takalluf karen ye kahane men
jo bhii khush hai ham usase jalate hain

hai use door kaa safr darapesh
ham sanbhaale nahiin sanbhalate hain

hai ajab faisale kaa saharaa bhii
chal n paDie to paanv jalate hain

ho rahaa hoon main kis tarah barbaad
dekhane vaale haath malate hain

tum bano rang, tum bano khushaboo
ham to apane sukhn men Dhalate hain

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles