43.1 C
Delhi
Friday, June 14, 2024

Buy now

Adsspot_img

ख़ामोशी कह रही है कान में क्या – Khaamoshii kah rahii hai kaan men kyaa aa rahaa hai mere

- Advertisement -

ख़ामोशी कह रही है, कान में क्या 
आ रहा है मेरे, गुमान में क्या 

अब मुझे कोई, टोकता भी नहीं 
यही होता है, खानदान में क्या 

बोलते क्यों नहीं, मेरे हक़ में 
आबले[1] पड़ गये, ज़बान में क्या 

मेरी हर बात, बे-असर ही रही 
नुक़्स है कुछ, मेरे बयान में क्या 

वो मिले तो ये, पूछना है मुझे 
अब भी हूँ मैं तेरी, अमान में क्या 

शाम ही से, दुकान-ए-दीद है बंद 
नहीं नुकसान तक, दुकान में क्या 

यूं जो तकता है, आसमान को तू 
कोई रहता है, आसमान में क्या 

ये मुझे चैन, क्यूँ नहीं पड़ता 
इक ही शख़्स था, जहान में क्या

khaamoshii kah rahii hai, kaan men kyaa
aa rahaa hai mere, gumaan men kyaa

ab mujhe koii, Tokataa bhii nahiin
yahii hotaa hai, khaanadaan men kyaa

bolate kyon nahiin, mere hak men
aabale[1] paD gaye, jbaan men kyaa

merii har baat, be-asar hii rahii
nuks hai kuchh, mere bayaan men kyaa

vo mile to ye, poochhanaa hai mujhe
ab bhii hoon main terii, amaan men kyaa

shaam hii se, dukaan-e-diid hai band
nahiin nukasaan tak, dukaan men kyaa

yoon jo takataa hai, aasamaan ko too
koii rahataa hai, aasamaan men kyaa

ye mujhe chain, kyoon nahiin paDtaa
ik hii shakhs thaa, jahaan men kyaa

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles