43.1 C
Delhi
Friday, June 14, 2024

Buy now

Adsspot_img

एक हुनर है जो कर गया हूँ मैं – Ek hunar hai jo kar gayaa hoon main sab ke dil se utar gayaa hoon main

- Advertisement -

एक हुनर है जो कर गया हूँ मैं 
सब के दिल से उतर गया हूँ मैं

कैसे अपनी हँसी को ज़ब्त करूँ
सुन रहा हूँ के घर गया हूँ मैं

क्या बताऊँ के मर नहीं पाता
जीते जी जब से मर गया हूँ मैं

अब है बस अपना सामना दरपेश
हर किसी से गुज़र गया हूँ मैं

वो ही नाज़-ओ-अदा, वो ही ग़मज़े
सर-ब-सर आप पर गया हूँ मैं 

अजब इल्ज़ाम हूँ ज़माने का
के यहाँ सब के सर गया हूँ मैं

कभी खुद तक पहुँच नहीं पाया
जब के वाँ उम्र भर गया हूँ मैं

तुम से जानां मिला हूँ जिस दिन से
बे-तरह, खुद से डर गया हूँ मैं

कू–ए–जानां में सोग बरपा है
के अचानक, सुधर गया हूँ मैं

ek hunar hai jo kar gayaa hoon main
sab ke dil se utar gayaa hoon main

kaise apanii hansii ko jbt karoon
sun rahaa hoon ke ghar gayaa hoon main

kyaa bataaoon ke mar nahiin paataa
jiite jii jab se mar gayaa hoon main

ab hai bas apanaa saamanaa darapesh
har kisii se gujr gayaa hoon main

vo hii naaj-o-adaa, vo hii gmaje
sar-b-sar aap par gayaa hoon main

ajab iljaam hoon jmaane kaa
ke yahaan sab ke sar gayaa hoon main

kabhii khud tak pahunch nahiin paayaa
jab ke vaan umr bhar gayaa hoon main

tum se jaanaan milaa hoon jis din se
be-tarah, khud se Dar gayaa hoon main

koo–e–jaanaan men sog barapaa hai
ke achaanak, sudhar gayaa hoon main

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles