32.1 C
Delhi
Monday, May 20, 2024

Buy now

Adsspot_img

koee din gar zindagaanee aur hai

- Advertisement -

कोई दिन गर ज़िंदगानी और है

अपने जी में हमने ठानी और हैहाँ

सोज़-ऐ -गम है निहानी और है

आतिश -ऐ -दोज़ख में ये गर्मी कबारह देखीं हैं उन की रंजिशें ,
पर कुछ अब के सरगिरानी और है

देके खत मुँह देखता है नामाबर ,
कुछ तो पैगाम -ऐ -ज़बानी और है

हो चुकीं ‘ग़ालिब’ बलायें सब तमाम ,
एक मर्ग -ऐ -नागहानी और है .

koee din gar zindagaanee aur hai

apane jee mein hamane thaanee aur hai 

aatish -ai -dozakh mein ye garmee kahaan
soz-ai -gam hai nihaanee aur hai

baarah dekheen hain un kee ranjishen ,
par kuchh ab ke saragiraanee aur hai 

deke khat munh dekhata hai naamaabar ,
kuchh to paigaam -ai -zabaanee aur hai 

ho chukeen ‘gaalib’ balaayen sab tamaam ,
ek marg -ai -naagahaanee aur hai .

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles