38.1 C
Delhi
Friday, June 14, 2024

Buy now

Adsspot_img

एक ही मुश्दा सुभो लाती है ज़हन में धूप फैल जाती है ek hii mushdaa subho laatii hai jhan men dhoop fail jaatii hai

- Advertisement -

एक ही मुश्दा सुभो लाती है
ज़हन में धूप फैल जाती है

सोचता हूँ के तेरी याद आखिर
अब किसे रात भर जगाती है

फर्श पर कागज़ो से फिरते है
मेज़ पर गर्द जमती जाती है

मैं भी इज़न-ए-नवागरी चाहूँ
बेदिली भी तो नब्ज़ हिलाती है

आप अपने से हम सुखन रहना
हमनशी सांस फूल जाती है

आज एक बात तो बताओ मुझे
ज़िन्दगी ख्वाब क्यो दिखाती है

क्या सितम है कि अब तेरी सूरत
गौर करने पर याद आती है

कौन इस घर की देख भाल करे
रोज़ एक चीज़ टूट जाती है

ek hii mushdaa subho laatii hai
jhan men dhoop fail jaatii hai

sochataa hoon ke terii yaad aakhir
ab kise raat bhar jagaatii hai

farsh par kaagajo se firate hai
mej par gard jamatii jaatii hai

main bhii ijn-e-navaagarii chaahoon
bedilii bhii to nabj hilaatii hai

aap apane se ham sukhan rahanaa
hamanashii saans fool jaatii hai

aaj ek baat to bataao mujhe
jindagii khvaab kyo dikhaatii hai

kyaa sitam hai ki ab terii soorat
gaur karane par yaad aatii hai

kaun is ghar kii dekh bhaal kare
roj ek chiij TooT jaatii hai

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

0FansLike
3,912FollowersFollow
14,700SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles