AjabThaUskiDildariKaAndaz JaunElia Video

0
305

अजब था उसकी दिलज़ारी का अन्दाज़
वो बरसों बाद जब मुझ से मिला है
भला मैं पूछता उससे तो कैसे
मताए-जां तुम्हारा नाम क्या है?

साल-हा-साल और एक लम्हा
कोई भी तो न इनमें बल आया
खुद ही एक दर पे मैंने दस्तक दी
खुद ही लड़का सा मैं निकल आया

दौर-ए-वाबस्तगी गुज़ार के मैं
अहद-ए-वाबस्तगी को भूल गया
यानी तुम वो हो, वाकई, हद है
मैं तो सचमुच सभी को भूल गया

रिश्ता-ए-दिल तेरे ज़माने में
रस्म ही क्या निबाहनी होती
मुस्कुराए हम उससे मिलते वक्त
रो न पड़ते अगर खुशी होती

दिल में जिनका निशान भी न रहा
क्यूं न चेहरों पे अब वो रंग खिलें
अब तो खाली है रूह, जज़्बों से
अब भी क्या हम तपाक से न मिलें

शर्म, दहशत, झिझक, परेशानी
नाज़ से काम क्यों नहीं लेतीं
आप, वो, जी, मगर ये सब क्या है
तुम मेरा नाम क्यों नहीं लेतीं

ajab thaa usakii dilajaarii kaa andaaj
vo barason baad jab mujh se milaa hai
bhalaa main poochhataa usase to kaise
mataae-jaan tumhaaraa naam kyaa hai?

saal-haa-saal aur ek lamhaa
koii bhii to n inamen bal aayaa
khud hii ek dar pe mainne dastak dii
khud hii laDkaa saa main nikal aayaa

daur-e-vaabastagii gujaar ke main
ahad-e-vaabastagii ko bhool gayaa
yaanii tum vo ho, vaakaii, had hai
main to sachamuch sabhii ko bhool gayaa

rishtaa-e-dil tere jmaane men
rasm hii kyaa nibaahanii hotii
muskuraae ham usase milate vakt
ro n paDte agar khushii hotii

dil men jinakaa nishaan bhii n rahaa
kyoon n cheharon pe ab vo rang khilen
ab to khaalii hai rooh, jajbon se
ab bhii kyaa ham tapaak se n milen

sharm, dahashat, jhijhak, pareshaanii
naaj se kaam kyon nahiin letiin
aap, vo, jii, magar ye sab kyaa hai
tum meraa naam kyon nahiin letiin

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here