Jo Ranai Nigahon ke liye Samaan-e-Jalwa hai 

0
1013

जो रानाई निगाहों के लिए फ़िरदौस-ए-जल्वा है

लिबास-ए-मुफ़्लिसी में कितनी बे-क़ीमत नज़र आती

यहाँ तो जाज़बिय्यत भी है दौलत ही की पर्वर्दा

ये लड़की फ़ाक़ा-कश होती तो बद-सूरत नज़र आती

 

Jo Ranai Nigahon ke liye Samaan-e-Jalwa hai 

Libas-e-muflisi mein Kitni Be-qeemat Nazar Aati 

Yahan to Jazbiyyat bhi Hai Daulat hi ki Parwarda 

Ye Ladki Faqa-kash hoti toh Bad-surat Nazar Aati 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here